Budget 2024: पिछले तीन बजट में टेक्नोलॉजी सेक्टर को लेकर क्या अहम घोषणाएं की गईं? आपको अगले बजट से क्या मिलने की उम्मीद है?

Budget 2024: पिछले तीन बजट में टेक्नोलॉजी सेक्टर को लेकर क्या अहम घोषणाएं की गईं? आपको अगले बजट से क्या मिलने की उम्मीद है?

Tech Companies: भारत में इलेक्ट्रॉनिक्स के लिए किसी भी कच्चे माल का निर्माण नहीं किया जाता है। टेक कंपनियां इसके लिए चीन जैसे देशों पर निर्भर हैं। आइए 2021, 2022 और 2023 के बजट की जांच करें कि उन तीन बजट चक्रों में तकनीकी उद्योग के लिए क्या महत्वपूर्ण घोषणाएं की गईं।

1 फरवरी 2024 को अंतरिम बजट पेश होने जा रहा है। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण छठी बार बजट पेश करेंगी। पिछले कुछ बजट मेड इन इंडिया पर केंद्रित रहे हैं। इस बार भी बजट को लेकर उम्मीद की जा रही है कि मेक इन इंडिया के लिए कुछ बड़े एलान होंगे। टेक कंपनियों की मांग है कि इंपोर्ट ड्यूटी को कम किया जाए ताकि थोक में कच्चे माल का आयात हो सके।

आपको बता दें कि इलेक्ट्रॉनिक के लिए भारत में कच्चे माल का उत्पादन नहीं होता है। इसके लिए टेक कंपनियों को चीन जैसे देश पर निर्भर रहना होता है। आए एक नजर डालते हैं कि 2021, 2022 और 2023 के बजट पर, और जानते हैं कि पिछले तीन बजट में टेक सेक्टर के लिए प्रमुख एलान क्या-क्या हुए हैं?

बजट 2021: बढ़ा हुआ आयात शुल्क, बजट के लिए एक समर्पित ऐप और मेड इन इंडिया टैब पर पेश किया गया बजट

टैबलेट पर बजट

केंद्रीय बजट 2021 एक ऐतिहासिक अवसर था जहां बहुत सारी चीजें हुईं। भारत के इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ है कि बजट कागज पर नहीं छपा है. बजट 2021 पेश करने के लिए इस्तेमाल किया गया टैबलेट मेड इन इंडिया टैबलेट था, हालांकि टैबलेट का ब्रांड अभी भी अज्ञात है।

बजट के लिए मोबाइल एप

यूनियन बजट नामक एक स्मार्टफोन ऐप 2021 में जारी किया गया था और अभी भी ऐप्पल ऐप स्टोर और Google Play Store पर मुफ्त में उपलब्ध है। बजट पेश होने के बाद पूरे बजट की एक प्रति ऐप पर अपलोड की गई। साथ ही, आम बजट के इतिहास में यह पहली बार है कि सरकार ने बजट के लिए एक समर्पित मोबाइल ऐप जारी किया है। इस एप को राष्ट्रीय सूचना केंद्र (NIC) ने तैयार किया है। यह एप हिंदी और अंग्रेजी दोनों भाषाओं में उपलब्ध होगा।

बजट 2021: आयात शुल्क बढ़ा

  • आम बजट 2021 में सरकार ने मोबाइल फोन के पुर्जों और चार्जर के साथ कई इलेक्ट्रॉनिक प्रोडक्ट पर आयात शुल्क बढ़ाने का फैसला किया था। घरेलू प्रोडक्शन को बढ़ावा देने के लिए सरकार ने यह कदम उठाया था। सरकार के इस फैसले से मोबाइल फोन के साथ चार्जर, केबल जैसे कई गैजेट और इलेक्ट्रॉनिक प्रोडक्ट महंगे हुए।
  • इलेक्ट्रॉनिक उत्पादों की सूची में तार (सभी प्रकार के तार, केबल) पहला नाम था, जिस पर सरकार ने बजट 2021 में आयात शुल्क बढ़ाया था। इसके 7.5 प्रतिशत आयात शुल्क को बजट से पहले घटाकर 10 प्रतिशत कर दिया गया था।
  • सेल्युलर मोबाइल फोन सर्किट, फोन कैमरे के पुर्जे, फोन कनेक्टर, फोन बैक कवर, साइड बटन, चार्जर और एडॉप्टर को फिलहाल आयात शुल्क से छूट दी गई थी, लेकिन इसे 2.5 प्रतिशत से बढ़ाकर 10 प्रतिशत कर दिया गया था।
  • फोन की सर्किट, कैमरा सेटअप, चार्जिंग पोर्ट पर आयात शुल्क 2.5 फीसदी और चार्जर, चार्जर के पार्ट्स पर 15 फीसदी लगा। बैटरी की बात करें तो पहले इस पर फिलहाल कोई आयात शुल्क नहीं लगता था लेकिन बजट के बाद लिथियम आयन बैटरी या बैटरी के पैक के इनपुट या कच्चे लिथियम आयन प्रोडक्ट पर 2.5 फीसदी का आयात शुल्क लगा।
  • बजट से पहले, एलईडी लाइट और लैंप सर्किट पर आयात शुल्क 5% था; अप्रैल 2021 से टैरिफ बढ़कर 10% हो गया। सौर इनवर्टर पर आयात शुल्क पांच से बढ़ाकर बीस प्रतिशत कर दिया गया और सौर लालटेन पर शुल्क पांच से बढ़ाकर पंद्रह प्रतिशत कर दिया गया। इसके अलावा, इलेक्ट्रॉनिक खिलौनों और उनके हिस्सों पर पांच प्रतिशत आयात शुल्क को बढ़ाकर पंद्रह प्रतिशत कर दिया गया।

Budget 2022: ई-पासपोर्ट समेत बड़ी घोषणाएं

  • वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बजट 2022 को पेश करते हुए ई-पासपोर्ट का एलान किया था। ई-पासपोर्ट माइक्रो चिप से लैस होते हैं।
  • वाणिज्यिक दूरसंचार कंपनियों के लिए 2022-2023 में 5G मोबाइल सेवाओं की पेशकश शुरू करने के लिए स्पेक्ट्रम नीलामी की घोषणा आवश्यक है।

  • मोबाइल कैमरा मॉड्यूल, लेंस और चार्जर पर आयात शुल्क में छूट की घोषणा के बाद स्मार्टफोन, चार्जर और अन्य उपकरणों की कीमत में गिरावट आई है।

  • डिजिटल रुपये की घोषणा हुई।

Budget 2023 की प्रमुख घोषणाएं

  • केंद्रीय बजट 2023-24 की प्रस्तुति के दौरान, वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने तीन उत्कृष्ट एआई संस्थानों के निर्माण की घोषणा की।

  • इसके अलावा 5G के विकास के लिए भी कई सेंटर ओपन करने की घोषणा हुई।
  • डेटा सुरक्षा के लिए राष्ट्रीय डेटा नीति की घोषणा वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने की।

  • ड्रोन टेक्नोलॉजी और इंटरनेट ऑफ थिंग्स हब खोलने की घोषणा।

  • स्किल इंडिया डिजिटल प्लेटफॉर्म की लॉन्चिंग।
  • इंजीनियरिंग स्कूलों में 5जी सेवाओं के लिए 100 लैब की स्थापना।

  • कैमरा लेंस, पार्ट्स और बैटरी के लिए आयात शुल्क में कमी।

  • टीवी पैनल के आयात शुल्क को भी 2.5 फीसदी कम किया गया।
  • इलेक्ट्रिक रसोई घर चिमनियों पर बेसिक सीमा शुल्क को 7.5 फीसदी से बढ़ाकर 15 फीसदी किया गया।

बजट 2024 से क्या हैं उम्मीदें?

आगामी बजट को लेकर कहा जा रहा है कि इलेक्ट्रॉनिक आइटम सस्ते होंगे, क्योंकि आगामी बजट में सरकार इंपोर्ट ड्यूटी को कम कर सकती है। कुछ दिन पहले ही ग्लोबल ट्रेड रिसर्च इनिशिएटिव (GTRI) की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि स्मार्टफोन बनाने के लिए इस्तेमाल होने वाले इलेक्ट्रॉनिक्स पार्ट्स पर इंपोर्ट ड्यूटी को कम किया जा सकता है। रिसर्चर्स के मुताबिक सरकार के इस कदम से मेक इन इंडिया को बढ़ावा मिलेगा। यदि वास्तव में ऐसा होता है कि निश्चित तौर पर स्मार्टफोन सस्ते होंगे।

यदि सरकार इंपोर्ट ड्यूटी में राहत देती है तो भारत का घरेलू उत्पादन 28 फीसदी तक बढ़ सकता है और स्मार्टफोन प्रोडक्शन का मार्केट 82 बिलियन डॉलर तक जा सकता है। रिपोर्ट के मुताबिक इंपोर्ट ड्यूटी में कमी के बाद प्रीमियम फोन ज्यादा सस्ते होंगे, हालांकि बजट फोन पर इसका कोई ज्यादा असर नहीं होगा।

 

1 thought on “Budget 2024: पिछले तीन बजट में टेक्नोलॉजी सेक्टर को लेकर क्या अहम घोषणाएं की गईं? आपको अगले बजट से क्या मिलने की उम्मीद है?”

Leave a Comment

Discover more from VGR Kanpur Times

Subscribe now to keep reading and get access to the full archive.

Continue reading